25/09/2022
देश

जगन मोहन रेड्डी की मां विजयम्मा ने दिया YSR कांग्रेस से इस्तीफा, अब बेटी की पार्टी में निभाएंगी यह भूमिका : आंध्र प्रदेश

आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री वाई एस जगन मोहन रेड्डी की मां विजयम्मा ने YSR कांग्रेस के मानद अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया है। उन्होंने अपनी बेटी का साथ देने के लिए यह फैसला किया है।

आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री YS जगन मोहन रेड्डी की मां वाईएस विजयम्मा ने शुक्रवार YSR कांग्रेस के मानद अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया। अपने बेटे जगन मोहन रेड्डी की पार्टी YSR कांग्रेस छोड़कर अपनी बेटी के साथ जाने का फैसला बना लिया है। विजयम्मा ने इस्तीफे का ऐलान करते हुए कहा कि वह हमेशा जगनमोहन रेड्डी के करीब रहेंगी। यह ऐलान गुरुवार को पार्टी के अधिवेशन में वायएस विजयलक्ष्‍मी ने भाषण के अंत में किया, कार्यक्रम में उनके बेटे YS जगनमोहन रेड्डी भी उपस्थित थे ।

विजयम्मा ने पार्टी के अधिवेशन में YSR कांग्रेस छोड़ने के अपने फैसले की घोषणा करते हुए कहा कि एक मां के तौर पर मैं हमेशा जगन के करीब रहूंगी। पूर्ण राष्ट्रीय बैठक में वाई.एस. विजयम्मा ने कहा कि इस पार्टी से अलग होने की सोच रही हूं। शर्मिला (उनकी बेटी) अकेले लड़ रही है। आपको बता दें कि जगन मोहन रेड्डी की बहन वाई एस शर्मिला ने भी अपने भाई से अलग राह पकड़ ली है और अपनी खुद की पार्टी बना ली है। शर्मिला पड़ोसी राज्य में YSR तेलंगाना पार्टी की कमान संभाल रही हैं।

रिपोर्ट : भारत में केवल 10.5% पुलिसकर्मी महिलाएं हैं और 3 में से सिर्फ 1 पुलिस थाने में CCTV है

विजयम्मा ने कहा, “शर्मिला अपने पिता के आदर्शों को आगे बढ़ाने के लिए तेलंगाना में अकेले लड़ाई लड़ रही हैं। मुझे उसका समर्थन करना होगा। मैं इस दुविधा में थी कि क्या मैं दो राजनीतिक दलों (दो राज्यों में) की सदस्य हो सकती हूं। YSR कांग्रेस के मानद अध्यक्ष पद पर बने रहना मेरे लिए मुश्किल है।” उन्होंने कहा, “मैंने कभी सोचा नहीं था कि ऐसी स्थिति पैदा होगी। मुझे नहीं पता कि ऐसा क्यों हुआ, लेकिन मुझे लगता है कि यह ईश्वर की मर्जी है।”

गौरलब है कि शर्मिला की पार्टी के अपने भाई के संगठन से ठंडे रिश्‍ते हैं। पिछले कुछ समय से खबरें आ रही थीं कि जगनमोहन रेड्डी और शर्मिला के बीच संपत्ति से जुड़े मुद्दों को लेकर सब कुछ ठीक नहीं है। खबरों के मुताबिक, पिछले कुछ दिनों में दोनों के बीच कड़वाहट काफी बढ़ गई है और विजयम्मा अपने बेटे से अलग रह रही हैं। कथित तौर पर जगन रेड्डी और उनकी बहन के बीच मतभेद तब पैदा हुए जब उन्होंने तेलंगाना में एक राजनीतिक पार्टी बनाई। ठीक एक साल पहले शर्मिला ने वाईएसआर तेलंगाना पार्टी की घोषणा की थी।

आज ही जगन मोहन रेड्डी के पिता की 73वीं जयंती है। इस मौके पर जगन ने अविभाजित आंध्र प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री वाई.एस. राजशेखर रेड्डी को श्रद्धांजलि दी। उनके साथ उनकी पत्नी और मां भी मौजूद थी। एक तरफ YSR कांग्रेस अपने पितामह यानी राजशेखर रेड्डी का जन्मदिन मना रही है। इस मौके पर पार्टी ने अपना दो दिन का अधिवेशन बुलाया है। कहा जा रहा है कि इस बैठक में जगन मोहन रेड्डी को YSR कांग्रेस का आजीवन अध्यक्ष बनाया जा सकता है।

नहीं रहे जापान के पूर्व पीएम शिंजो आबे, पीएम मोदी ने कहा- भारत में 9 जुलाई को एक दिन का राष्ट्रीय शोक मनाया जाएगा

Related posts

जीत के बाद भी मुसीबत में लखनऊ: कप्तान केएल राहुल पर बैन का खतरा

Such Tak

ज्ञानवापी: परिसर के दो तहखानों को खोला गया, 12 बजे तक होगा सर्वे

Such Tak

यह महंगाई मार डालेगी :18 रुपए किलो का आटा 35 पार, तेल ढाई गुना महंगा

Such Tak