30/09/2022
खेल देश

कभी MI ने साथ छोड़ा, वापसी पर IPL चैम्पियन बने; अब उनमें देखा जा रहा अगला भारतीय कप्तान : हार्दिक ने अकेले के दम पर जिताया पहला टी-20

कहा जाता है कि हर मर्ज की एक ही दवा नहीं हो सकती, लेकिन पिछले वर्ल्ड कप के बाद भारतीय टी-20 टीम में जितनी भी समस्याएं दिखीं सबकी दवा फिलहाल एक ही साबित हो रही है। दवा का नाम जानेंगे पहले मर्ज की फेहरिस्त देख लीजिए..

  • भारतीय टीम में बॉलिंग डेप्थ की कमी
  • कमजोर मिडिल ऑर्डर
  • शुरुआत में दो-तीन विकेट गिर तो पारी कौन संभालेगा
  • डेथ ओवर्स में पावर हिटिंग कौन करेगा
  • अगले वर्ल्ड कप में टीम इंडिया का ऑलराउंडर कौन होगा

हिंदी विरोधी पेरियार ने 1939 में की थी द्रविड़नाडु की मांग, अब DMK नेता राजा ने अमित शाह को दी धमकी : तमिलनाडु को देश बनाने की मांग कश्मीर से भी पुरानी

  • जिस एक दवा ने इन सभी परेशानियों को हल कर दिया है उसका नाम है हार्दिक पंड्या। उन्होंने इंग्लैंड के खिलाफ पहले टी-20 मैच में 51 रन की पारी भी खेली और चार विकेट भी लिए। हालांकि, ज्यादा दिन नहीं बीते हैं जब हार्दिक तमाम निगेटिव कारणों से चर्चा में थे।

    पीठ की चोट ठीक नहीं हो रही थी। वे गेंदबाजी नहीं कर पा रहे थे। भारतीय टीम ने उन्हें वर्ल्ड कप तक मौका दिया फिर ड्रॉप कर दिया। जिस मुंबई इंडियंस को उन्होंने कई बार चैम्पियन बनाया उसने तो एक सीजन भी इंतजार नहीं किया। पंड्या को रिटेन नहीं किया गया। पंड्या इससे टूटे नहीं। कड़ी मेहनत की। फिटनेस को दुरुस्त किया और ग्राउंड पर वापसी कर ली।

    वे जब से पीठ की चोट से उबर कर वापस लौटे हैं तब से एक के बाद एक लगातार कमाल किए जा रहे हैं। पहले उन्होंने IPL-2022 में बतौर कप्तान नई-नवेली टीम गुजरात टाइटंस को चैम्पियन बनाया और फिर उसके बाद टीम इंडिया के लिए एक के बाद एक मैच विनिंग परफॉर्मेंस भी दिए जा रहे हैं। पंड्या ने अपने परफॉर्मेंस से टीम इंडिया के सामने खड़े हुए तमाम सवालों का जवाब भी दे दिया है। कैसे दिया यह भी समझ लेते हैं

इंग्लैंड के खिलाफ नहीं चले तो वर्ल्ड कप स्क्वॉड में नहीं मिलेगी जगह, मैनेजमेंट के पास ऑप्शन हैं : कोहली टी-20 टीम से बाहर हो सकते हैं

    • मिडिल ऑर्डर में मजबूती आ गई है। हार्दिक के नंबर 5 पर आने से टॉप ऑर्डर भी निश्चिंत होकर खेल रहा है और लोअर मिडिल ऑर्डर भी। उनको यकीन है कि हम नहीं चले तो क्या हुआ..हार्दिक संभाल लेगा। वे लगातार संभाल भी रहे हैं। पिछले ही मैच में 51 रन बनाए। किसी भी बल्लेबाज से ज्यादा।
    • शुरुआती विकेट गिरने का टेंशन भी खत्म हो गया। हार्दिक अब विराट कोहली की तरह सॉलिड बैटिंग कर लेते हैं। अगर ओवर ज्यादा बीत जाएं तो धोनी की तरह पावर हिटिंग भी कर लेते हैं।
    • डेथ ओवर्स के पावर हिटर हार्दिक हमेशा से रहे हैं। चोट से वापसी के बाद उनकी यह खूबी दोबारा पूरी तरह से टेस्ट नहीं हुई है, लेकिन जो काम वो पहले आसानी से कर लेते थे उम्मीद है आगे भी कर लेंगे।
    • यह डिबेट भी समाप्त हो गया है कि अगले टी-20 वर्ल्ड कप में भारत का ऑलराउंडर कौन होगा। अगर कोई खिलाड़ी एक ही मैच में फिफ्टी भी जमाए और चार विकेट भी ले तो उससे बेहतर दावेदार कौन हो सकता है।

    अब अगर कोई एक ही खिलाड़ी इतनी सारी मुसीबतों को हल कर दे तो उसे क्या कहेंगे? आप चाहें तो सुपरमैन कह सकते हैं। वैसे क्रिकेट प्रेमियों और क्रिकेट प्रशासकों का एक बड़ा तबका उन्हें भारतीय टीम का कैप्टेन कह रहा है। यानी रोहित के बाद टीम इंडिया की कमान संभालने का दावेदार। आपकी क्या राय है?

Related posts

लखीमपुर खीरी में BJP विधायक की स्कॉर्पियो ने दो लोगों को कुचला, मौके पर ही मौत

Such Tak

पिंक सूट में छाईं आलिया भट्ट : शादी के बाद पहली बार दिखीं आलिया

Such Tak

आखिर किस मजबूरी में आंध्र के सीएम जगनमोहन खत्म करना चाहते हैं विधान परिषद?

Web1Tech Team