23/09/2022
अपराध देश

पांचों गैंगस्टर कार में 15 हथियार लहरा रहे थे, रब ने मेहर कर दी… गाने पर झूम रहे थे : मूसेवाला की हत्या के बाद हत्यारों ने जश्न मनाया था

29 मई को सिंगर सिद्धू मूसेवाला के मर्डर के बाद कातिलों ने जमकर जश्न मनाया था। वे जिस गीत पर झूमे, अब वह खूब चर्चा में है। यह गीत काफिला शीर्षक से पंजाबी सिंगर वरिंदर बराड़ का है। जो अप्रैल 2019 में रिलीज हुआ था।

कार में पंजाबी गाना रब ने मेहर कर दी… चल रहा है और यह सब किसी खेत वाले रास्ते से जा रहे हैं। जिन हथियारों की कातिल शार्प शूटर्स नुमाइश कर रहे हैं, उनका इस्तेमाल मूसेवाला की हत्या में हुआ था। वीडियो में पांचों आरोपी 15 से ज्यादा पिस्टल लहराते दिख रहे हैं।

अंकित के मोबाइल से मिला वीडियो
इस गीत के जरिए जहां कातिल मूसेवाला को पहचानने की बात कह रहे हैं। वहीं, खुद का भी बखान कर रहे हैं। दिल्ली पुलिस को शार्प शूटर अंकित सेरसा के मोबाइल से यह वीडियो मिला था। जिसमें अंकित के अलावा प्रियव्रत फौजी, दीपक मुंडी, कपिल पंडित और सचिन भिवानी आधुनिक हथियारों के साथ चलती कार में झूमते नजर आ रहे हैं।

गीत के बोल से जाहिर कर रहे खुशी
इस गीत की शुरूआत में हम काले शीशे में पहचान लेते हैं कि अंदर कोई चोटी का स्टार होगा। मूसेवाला जिस थार जीप में गए थे, उसके शीशे भी हलके काले रंग के थे। आगे कातिल अपनी तारीफ कर रहे हैं कि जहां हमारा चक्कर लगता है, वहां भीड़ हो जाती है। मूसेवाला की हत्या के बाद मानसा में उस जगह पर लोग जमा हो गए थे। इसके आगे है कि शहर तुरंत सील हो जाता है। मूसेवाला के कत्ल के बाद पूरे मानसा को सील कर दिया गया था।

हमारी एंट्री का शोर घर-घर पहुंच जाता है
गीत के आगे के बोल हैं कि हमारी एंट्री का शोर घर-घर पहुंच जाता है। मूसेवाला की हत्या के बाद पूरे पंजाब ही नहीं बल्कि देश-विदेश में भी इसकी गूंज पहुंची थी। गीत के जरिए वह मूसेवाला को बुरे दिल का कह रहे हैं। हालांकि सिद्धू ने अपने गीत में ‘दिल दा नीं माड़ा-तेरा सिद्धू मूसेवाला’ यानी सिद्धू मूसेवाला दिल का बुरा नहीं है, कहा था।

एंकर को पकड़ने पहुंची छत्तीसगढ़ पुलिस; गाजियाबाद पुलिस ने रोका, नोएडा पुलिस पकड़ ले गई : राहुल गांधी फेक न्यूज केस में एंकर अरेस्ट

खबरों को लेकर भी गीत के जरिए तंज
इसी गीत में खबरों को लेकर भी गीत के जरिए कातिल तंज कस रहे हैं। गीत के बोल हैं कि जब हमारे साथ गाड़ियों का काफिला गुजरता है तो बड़े अखबार कहते हैं कि हम इसे छापेंगे। टीवी वालों की आंख भी हम पर टिकी रहती है। जिन कामों को पुलिस बैन करती है, वह काम हमसे बार-बार होगा।

29 मई को हुआ था मूसेवाला का मर्डर

मूसेवाला 29 मई को जब थार जीप से निकले तो कोरोना और बोलेरो में शार्प शूटर्स पहले से तैयार बैठे थे। उन्हें कनाडा बैठे लॉरेंस गैंग के गैंगस्टर गोल्डी बराड़ से निर्देश मिल चुके थे। इसके बाद उन्होंने कोरोला से मूसेवाला की थार का पीछा किया। आगे जाकर उन्होंने मूसेवाला की थार को ओवरटेक किया और AK 47 से ताबड़तोड़ फायरिंग कर दी। जिससे मूसेवाला की थार वहीं रुक गई। इसके बाद बोलेरो वाले शार्प शूटर्स भी वहां पहुंचे और ताबड़तोड़ गोलियां मारकर मूसेवाला की हत्या कर दी।

पांचवें टेस्ट में इतिहास रचने के करीब इंग्लिश टीम, भारत के खिलाफ तोड़ सकती है 45 साल पुराना रिकॉर्ड : इंग्लैंड जीत से 119 रन दूर

 

Related posts

युद्ध स्तर पर कायाकल्प की तैयारी:सोनिया के घर तीसरे दिन जुटी कांग्रेस की टॉप लीडरशिप, पीके भी मौजूद; मिशन 370 पर मंथन

Such Tak

खान मंत्री प्रमोद भाया की भरत सिंह को सीधी सपाट भाषा में दो टूक

Such Tak

1999 में IC-814 के अपहरण के दौरान रिहा हुए मुश्ताक अहमद जरगर को आतंकवादी घोषित किया गया

Such Tak