01/12/2022
देश राजनीति

संजय राउत ने वीर सावरकर पर टिप्पणी को लेकर विवाद के बीच राहुल गांधी की तारीफ की

संजय राउत ने इसे ‘मानवीय’ करार देते हुए कहा, ‘राहुल गांधी ने कल भारत जोड़ो यात्रा के अपने व्यस्त कार्यक्रम के बावजूद मुझे फोन किया और हाल-चाल जाना.

 

 

 

 

 

 

 

 

  • वीर सावरकर पर कांग्रेस नेता राहुल गांधी की टिप्पणी को लेकर उद्धव ठाकरे की शिवसेना गुट के बीच मतभेद उभरने के बाद, संजय राउत ने वायनाड के सांसद की भारत जोड़ो यात्रा के दौरान उनके स्वास्थ्य का हाल-चाल लेने पर उनकी तारीफ की है.

संजय राउत ने इसे ‘मानवीय’ करार देते हुए कहा, ‘राहुल गांधी ने कल भारत जोड़ो यात्रा के अपने व्यस्त कार्यक्रम के बावजूद मुझे फोन किया और हाल-चाल जाना. उन्होंने कहा कि हम आपकी बेहतरी को लेकर चिंतित हैं और कहा कि ध्यान रखें, हम साथ काम करेंगे.’

कांग्रेस नेता राहुल गांधी की इस बात की सराहना करते हुए उन्होंने कहा कि राजनीतिक कटुता के समय में इस तरह के चीजें दुर्लभ हैं.

उन्होंने ट्वीट किया, ‘मैं एक राजनीतिक सहयोगी के दर्द को महसूस करने की उनकी सहानुभूति की सराहना करता हूं, जिन्होंने 110 दिन जेल में बिताए हैं. राजनीतिक कड़वाहट के समय में, इस तरह की चीजें दुर्लभ होती जा रही हैं. राहुल जी अपनी यात्रा में प्यार और करुणा पर ध्यान केंद्रित कर रहे हैं और भारी समर्थन प्राप्त कर रहे हैं.’

संजय राउत ने कहा कि राहुल गांधी एक ऐसे शख्स हैं जो दोस्तों की तरह जुड़े रहते हैं.

उन्होंने कहा, ‘राहुल गांधी एक ऐसे व्यक्ति हैं जो वैचारिक और राजनीतिक मतभेदों के होते हुए भी दोस्त की तरह जुड़े रहते हैं. बीजेपी में भी मेरे दोस्त हैं लेकिन जब मैं जेल में था तो वे खुश थे, यह मुगल काल की राजनीति है.’

इससे पहले गुरुवार को महाराष्ट्र में अपनी ‘भात जोड़ो यात्रा’ के इतर एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए, राहुल गांधी ने कथित तौर पर सावरकर द्वारा अंग्रेजों को लिखे गए एक पत्र को पढ़कर दावा किया था कि भगवा विचारक सावरकर ने आजादी से पहले अंग्रेजों को माफीनामा पत्र पर हस्ताक्षर करके महात्मा गांधी, जवाहरलाल जैसे नेताओं को धोखा दिया था.

उन्होंने कहा था, ‘वीर सावरकर ने अंग्रेजों को यह कहते हुए लिखा, ‘सर, मैं आपके सबसे आज्ञाकारी सेवक बने रहने की विनती करता हूं’, और उस पर हस्ताक्षर किए. सावरकर ने अंग्रेजों की मदद की. उन्होंने इस पत्र पर डर कर हस्ताक्षर करके महात्मा गांधी, जवाहरलाल नेहरू और सरदार पटेल जैसे नेताओं को धोखा दिया.’

ठाणे नगर पुलिस स्टेशन में राहुल के खिलाफ शिकायत दर्ज होने के साथ, गुरुवार को उनकी टिप्पणी पर भारी प्रतिक्रिया सामने आई.

संजय राउत ने कहा था कि वह महाराष्ट्र में कांग्रेस के नेता राहुल गांधी की सावरकर पर टिप्पणियों का समर्थन नहीं करेंगे.
राउत ने कहा, ‘महाराष्ट्र आकर सावरकर पर टिप्पणी स्वीकार्य नहीं होगी. कांग्रेस नेता उनका समर्थन नहीं करेंगे. भारत जोड़ो यात्रा तानाशाही के खिलाफ है और कांग्रेस को बेरोजगारी, महंगाई जैसे मुद्दों पर समर्थन मिल रहा है.’

राउत ने कहा था कि ‘इस तरह के बयान देने से एमवीए में कलह हो सकती है. हम वीर सावरकर में विश्वास करते हैं और हम नकली हिंदुवादियों से पूछना चाहते हैं कि हम 10 साल के लिए वीर सावरकर के लिए भारत रत्न की मांग कर रहे हैं. जबकि बीजेपी सत्ता में है, लेकिन फिर भी वह हमारी मांगें क्यों नहीं पूरी कर रही है.’

इस टिप्पणी को लेकर भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने नाराजगी जताई, पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता संबित पात्रा ने दावा किया कि यह बयान सुभाष चंद्र बोस और सरदार पटेल जैसे राष्ट्रीय प्रतीकों का अपमान करने की कांग्रेस की आदत के मुताबिक है.

 

Related posts

राजस्थान: कांस्टेबल भर्ती परीक्षा का पेपर लीक, एक गलती की वजह से दोबारा होगी परीक्षा

Such Tak

नकवी बोले- मैंने ये शपथ नहीं ली थी कि मुस्लिमों के विकास के लिए ही काम करूंगा : उपराष्ट्रपति उम्मीदवार बनाए जाने से अंजान हूं

Such Tak

जानिए हिन्दू पूजा-आरती और शुभ अवसरों पर शंख बजाने के 8 महत्त्वपूर्ण कारण

Web1Tech Team