25/09/2022
देश राजनीति

क्यों शिवसेना के कुछ सांसद द्रौपदी मुर्मू का समर्थन करना चाहते हैं : ‘शिंदे और BJP के साथ पैच-अप के संकेत’

शिवसेना में विभाजन के बाद, पार्टी के कुछ सांसदों ने अपने प्रमुख उद्धव ठाकरे से एकनाथ शिंदे के नेतृत्व में उनके खिलाफ विद्रोह करने वालों के साथ सुलह करने और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के साथ समझौता करने के लिए दरवाजे खुले रखने का आग्रह किया है.

सेना के तीन सांसदों ने नाम न छापने की शर्त पर दिप्रिंट से बात की और कहा कि महाराष्ट्र से पार्टी के कुछ लोकसभा सांसद सुलह की रणनीति बनाने के लिए छोटे समूहों में बैठकें कर रहे हैं और उन्हें लगता है कि उन्हें द्रौपदी मुर्मूका समर्थन करना चाहिए, भाजपा के नेतृत्व वाले राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) के राष्ट्रपति पद की उम्मीदवार का विपक्ष के उम्मीदवार यशवंत सिन्हा के खिलाफ होना भाजपा से संबंधों में आई गिरावट की दिशा में एक अच्छा कदम हो सकता है.

तीन में से दो सांसदों ने 18 जुलाई को होने वाले राष्ट्रपति चुनाव पर चर्चा के लिए सोमवार को सबअर्बन मुंबई में उनके आवास मातोश्री में ठाकरे द्वारा बुलाई गई बैठक में भी भाग लिया.

उन्होंने कहा कि सोमवार की चर्चा मुख्य रूप से राष्ट्रपति चुनाव पर केंद्रित थी, कुछ सांसदों ने भी ठाकरे से इतर बात की और कहा कि शिंदे के साथ समझौते से पार्टी को फायदा होगा, जो अब महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री हैं.

एक सांसद ने कहा, ‘पार्टी के कुछ सांसदों को लगता है कि शिवसेना को फिर से बीजेपी के साथ गठबंधन करना चाहिए.’

‘लेकिन पहले, हमें लगता है कि हमें शिंदे खेमे के साथ संबंध सुधारना चाहिए. वे सभी हमारे लोग हैं. एक शिवसैनिक [शिंदे] अब सीएम है, हालांकि यह सब उन परिस्थितियों में हुआ जिसकी किसी ने उम्मीद नहीं की थी…. हमने इस दौरान उद्धव साहब से इसका जिक्र किया.

उन्होंने कहा, ‘हम दोनों समूहों के बीच की खाई को पाटने के लिए अपने स्तर से कदम उठा रहे हैं.’

कुल 40 विधायको ने पिछले महीने उद्धव ठाकरे के नेतृत्व वाली महा विकास अघाड़ी (एमवीए) गठबंधन सरकार के खिलाफ विद्रोह किया, जिससे सरकार गिर गई. फिर शिंदे के नेतृत्व में, विधायकों ने जून के अंत में भाजपा के साथ सरकार बनाई.

एमवीए सरकार में शिवसेना और उसके पूर्व प्रतिद्वंद्वी, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) और कांग्रेस शामिल हैं.

ऐसी चर्चा है कि कई सांसद भी शिंदे खेमे को समर्थन दे सकते हैं, महाराष्ट्र में पार्टी के 18 लोकसभा सांसदों में से 13 सोमवार को बैठक के लिए मातोश्री में मौजूद थे. जो पांच अनुपस्थित थे, उनमें से दो शिंदे के बेटे श्रीकांत शिंदे और भावना गवली पहले ही शिंदे खेमे में शामिल हो चुके हैं.

शेष तीन – संजय जाधव, संजय मांडलिक और हेमंत पाटिल – ने दिप्रिंट को बताया कि वे ‘ किसी मजबूरी’ के कारण उपस्थित नहीं हो सके और उन्होंने ठाकरे को इसके बारे में सूचित कर दिया था.

पाकिस्तान से राजस्थान के 6 जिलों में 40 लोग तैयार किए, सभी को ऑनलाइन ट्रेनिंग दी : नूपुर के हर समर्थक का कत्ल करने वाले थे आतंकी

Related posts

जेएनयू में रामनवमी की पूजा और मांसाहार पर झड़प, एफ़आईआर दर्ज

Such Tak

एक बजे तक 35.88% वोटिंग; ललितपुर के 5 गांवों में 12 बजे तक कोई वोट नहीं पड़ा, बिकरू कांड वाले गांव में लंबी कतारें

Such Tak

गहलोत V/S पायलट:4 बार पायलट-गांधी परिवार की मुलाकात के बाद गहलोत का जुबानी हमला, इस बार वजह ‘आजादी यात्रा’

Such Tak