01/12/2022
खेल खोज खबर देश मनोरंजन

रोजर बिन्नी का भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड का 36वां अध्यक्ष बनना लगभग तय

पूर्व ऑलराउंडर रोजर बिन्नी भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) के 36वें प्रेसिडेंट बन गए हैं। बोर्ड की एजीएम में मंगलवार को बिन्नी को प्रेसिडेंट चुना। वो सौरव गांगुली की जगह लेंगे। BCCI की वार्षिक आम बैठक में इसका फैसला किया गया है। बता दें कि BCCI की वार्षिक आम बैठक मुंबई के ताज होटल में आज हुई जिसमें बीसीसीआई सचिव जय शाह, पूर्व अध्यक्ष सौरव गांगुली, उपाध्यक्ष राजीव शुक्ला, कोषाध्यक्ष अरुण सिंह धूमल और पूर्व भारतीय क्रिकेटर रोजर बिन्नी भी मौजूद थे।

रोजर बिन्नी (Roger Binney) समेत अन्य पदाधिकारियों का चुनाव महज औपचारिकता है क्योंकि सभी का निर्विरोध चुना जाना तय है. बीसीसीआई के जो अन्य पदाधिकारी सर्वसम्मति से चुने जाएंगे, उनमें जय शाह (सचिव), आशीष शेलार (कोषाध्यक्ष), राजीव शुक्ला (उपाध्यक्ष) और देवजीत सैकिया (संयुक्त सचिव) शामिल हैं. निवर्तमान कोषाध्यक्ष अरुण धूमल आईपीएल के नए अध्यक्ष होंगे.

ICC चेयरमैन पद को लेकर चर्चा

BCCI की वार्षिक आम बैठक का दूसरा सबसे बड़ा मुद्दा ICC चेयरमैन का है. मीटिंग में इसपर भी चर्चा होगी. बता दें कि ICC चेयरमैन के लिए नामांकन की अंतिम तिथि 20 अक्टूबर है. ICC बोर्ड की 11 से 13 नवंबर के बीच मेलबर्न में बैठक होगी.

सौरव गांगुली की BCCI से विदाई के बाद अब यह देखना दिलचस्प होगा कि क्या आईसीसी के शीर्ष पद के लिए इस पूर्व कप्तान के नाम पर विचार किया जाता है या नहीं.

IPL ऑक्शन को लेकर फैसला

मीटिंग में IPL को लेकर भी चर्चा होगी. आईपीएल नीलामी की तारीख पर फैसला किया जाएगा और पहले विमेंस आईपीएल को लेकर भी चर्चा होगी. उम्मीद है कि विमेंस आईपीएल में 7 टीमें होंगी, जिसके बारे में ऑपरेशनल जानकारियों पर कुछ खुलासा होगा. रिपोर्ट्स के मुताबिक बोर्ड मेन्स आईपीएल से पहले विमेंस आईपीएल मार्च में करवाना चाहता है. बीसीसीआई एजीएम के बाद अरुण धूमल नवगठित आईपीएल संचालन परिषद की बैठक की अध्यक्षता करेंगे.

BCCI एजीएम में अगले साल भारत में होने वाले क्रिकेट विश्व कप के लिए टैक्स में छूट को लेकर भी चर्चा होगी. यदि केंद्र सरकार ICC को भारत में होने वाली इस प्रतियोगिता के लिए टैक्स में छूट नहीं देती है तो BCCI को 955 करोड़ का नुकसान हो सकता है.

बिन्नी हैं 1983 के विश्व कप के हीरो

भारत के इस ऑलराउंडर को 1983 के विश्व कप में भारत की जीत के हीरो के तौर पर पहचान होती है. कपिलदेव की अगुआई में भारत द्वारा इस जीते विश्व कप में बिन्नी ने आठ मैचों में सबसे ज्यादा 18 विकेट निकाले थे.

ये विश्व कप में चेम्सफोर्ड में 20 जून को खेला गया ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ मैच में उनके प्रदर्शन को कैसे भुलाया जा सकता है. भारत को आगे जाने के लिए यह मैच जीतना ज़रूरी था. भारत ने पहले बल्लेबाजी करके 247 रन बनाए. इसमें बिन्नी ने 21 रनों का योगदान किया.

ऑस्ट्रेलिया की जवाबी पारी को रोजर बिन्नी और मदनलाल की जोड़ी ने 129 रन पर ढहाकर भारत को 118 रन से जीत दिलाई थी. बिन्नी ने इस मैच में 29 रन देकर चार विकेट और मदनलाल ने 20 रन देकर चार विकेट निकाले थे.

विश्व कप ही नहीं रोजर बिन्नी को 1985 में ऑस्ट्रेलिया में हुई वर्ल्ड सिरीज चैंपियनशिप में शानदार प्रदर्शन के लिए भी जाना जाता है. इस सिरीज़ में उन्होंने 17 विकेट निकालकर भारत को चैंपियन बनाने में अहम भूमिका निभाई थी.

भारत के लिए टेस्ट खेलने वाले पहले एंग्लो इंडियन

रोजर बिन्नी ने अपने घरेलू मैदान बेंगलुरू के चिन्नास्वामी स्टेडियम पर 1979 में पाकिस्तान के ख़िलाफ़ टेस्ट क्रिकेट में पर्दापण किया. इस तरह वह भारत के लिए टेस्ट क्रिकेट खेलने वाले पहले एंग्लो इंडियन बन गए. बिन्नी स्कॉटिश मूल के भारतीय हैं.

बिन्नी को नैसर्गिक प्रतिभा वाला एथलीट माना जाता था. वह स्कूली दिनों में क्रिकेट के अलावा फुटबॉल और हॉकी भी खेला करते थे. यही नहीं वह एथलेटिक्स में जेवेलिन थ्रो में भी इतने उम्दा थे कि इसमें भी कॅरियर बना सकते थे.

उन्होंने जेवेलिन में बालक वर्ग में राष्ट्रीय रिकॉर्ड भी बनाया था. लेकिन वह गेंदबाजी भ़ी उम्दा करते थे. इसलिए जब कॅरियर बनाने की बात आई तो उन्होंने क्रिकेट को चुना.

ICC चेयरमैन को लेकर भी होगी चर्चा

आईसीसी चेयरमैन पद के लिए जिन अन्य नामों की चर्चा हो रही है इनमें खेल मंत्री अनुराग ठाकुर और बीसीसीआई के पूर्व अध्यक्ष एन श्रीनिवासन शामिल हैं। श्रीनिवासन चुनाव लड़ने के योग्य है, लेकिन यह देखना है कि 78 साल की आयु में बोर्ड उन्हें अपना समर्थन देता है या नहीं। अनुराग ठाकुर की बात करें तो वह 12 नवंबर को हिमाचल प्रदेश में होने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर आईसीसी बोर्ड की बैठक के दौरान व्यस्त रहेंगे।

AGM में प्रमुख राज्य संघों के प्रतिनिधि
बड़ौदा संघ : प्रणव अमीन
दिल्ली संघ : रोहन जेटली
गुजरात संघ : जय शाह
हरियाणा संघ : अनिरुद्ध चौधरी
हिमाचल संघ : अरुण सिंह धूमल
हैदराबाद संघ : मो. अजहरुद्दीन
कर्नाटक संघ : रोजर माइकल बिन्नी
केरल संघ : जयेश जॉर्ज
मुंबई संघ : आशीष बाबाजी शेलार
राजस्थान संघ : वैभव गहलोत
उप्र संघ : राजीव शुक्ला
विदर्भ संघ : अद्वैत मनोहर
एमपीसीए : अभिलाष खांडेकर

Related posts

हिजाब विवाद : कर्नाटक में बिगड़ रहे हालत, कॉलेजों में हिंसक प्रदर्शन

Web1Tech Team

उर्मिला भाया बन रही राजनीती में मिसाल जिला प्रमुख आपके द्वार कार्यक्रम जारी

Such Tak

बागी विधायक लौटेंगे मुंबई ,महाराष्ट्र में कल होगा फ्लोर टेस्ट

Such Tak