13/08/2022
अपराध खोज खबर देश

अमरावती टारगेट किलिंग की जांच NIA करेगी : मुख्य आरोपी समेत 7 अरेस्ट; उसने 21 लोगों की फौज बनाई, 6 ने गला काटा

नूपुर शर्मा के सपोर्ट में पोस्ट शेयर करने के आरोप में अमरावती में हुई उमेश कोल्हे की हत्या के मामले में मुख्य आरोपी समेत 7 को अब तक गिरफ्तार कर लिया गया है। 6 आरोपियों ने कोल्हे की गला काटकर हत्या कर दी थी। मुख्य आरोपी इरफान शेख रहीम को कुछ देर में स्थानीय कोर्ट में पेश किया जाएगा।

जांच में सामने आया है कि इरफान रायबर हेल्पलाइन नाम की एक NGO चलाता है और इससे तकरीबन 21 लोग जुड़े हुए हैं। सूत्रों के मुताबिक, हत्याकांड में शामिल अन्य आरोपी भी इसी NGO से जुड़े हुए हैं। NIA ने मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

NGO की पाकिस्तान से हो रही थी फंडिंग
सूत्रों के मुताबिक, जांच एजेंसीज को यह जानकारी मिली है कि इस NGO को कुछ खाड़ी देशों और पाकिस्तान से फंडिंग हो रही थी। मुख्य आरोपी को नागपुर से गिरफ्तार किया गया है। वहीं गिरफ्तार छठे आरोपी डॉ. यूसुफ खान उर्फ बहादुर को 5 जुलाई तक पुलिस कस्टडी में भेजा गया है।

इसे शनिवार को ही पकड़ा गया था। जांच में यह भी सामने आया है कि इरफान ने धर्म और पैसे का लालच देकर 5 आरोपियों को तैयार किया था। डॉ युसूफ खान वह व्यक्ति है जिसने उमेश कोल्हे के पोस्ट के स्क्रीनशॉट को कुछ संदिग्ध व्हाट्स ऐप ग्रुप में फारवर्ड किया था।

CCTV फुटेज में दिखी हत्या की पूरी कहानी​​​​
21 जून को हुई इस घटना का एक सीसीटीवी वीडियो भी सामने आया है। यह रात साढ़े 10 बजे प्रभात चौक पर स्थित महिला महाविद्यालय के बाहर लगे कैमरे में कैद हुआ था। इसमें दो आरोपियों को उमेश कोल्हे के पीछे जाते हुए देखा गया। फिर वारदात के बाद वे भागते हुए भी ये दिखे।

शाह के आदेश पर शुरू हुई NIA की जांच
भाजपा नेताओं की ओर से दावा किया जा रहा है कि उदयपुर की तरह ही उमेश कोल्हे की हत्या की गई है। अमरावती में कोल्हे निलंबित भाजपा नेता नूपुर शर्मा के समर्थन में एक फेसबुक पोस्ट लिखी थी, जिसके स्क्रीनशॉट को कुछ अन्य संदिग्ध ग्रुप में वायरल कर दिया गया। इसके बाद उनकी हत्या कर दी गई थी।

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के निर्देश पर राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) ने इस मामले की जांच शुरू की है। वहीं सांसद नवनीत राणा ने इस मुद्दे पर गृहमंत्री अमित शाह को पत्र लिख महाराष्ट्र पुलिस पर लापरवाही का आरोप लगाया है।

घात लगाकर बैठे थे आरोपी
पुलिस ने शनिवार को प्रेस कांफ्रेस में माना कि यह हत्या नूपुर शर्मा के समर्थन में पोस्ट लिखने की वजह से ही हुई है। अमरावती के डीसीपी उमेश साल्वी ने कहा, ‘उमेश कोल्हे की हत्या नूपुर शर्मा की पोस्ट वायरल होने के कारण हुई थी।’

पुलिस सूत्रों के मुताबिक, एक आरोपी ने पूछताछ में बताया है कि उसे एक NGO संचालक ने उमेश को मारने के लिए कहा था। उमेश को मारने के लिए दो टीमें लगाई गई थीं। एक टीम को फोन करके उमेश के कॉलेज के पास पहुंचने की पुष्टि की गई और फिर उन पर हमला हुआ।

पुलिस के मुताबिक, यहां बीच सड़क पर मेडिकल शॉप के संचालक उमेश प्रह्लाद कोल्हे (54) को गर्दन पर चाकू से वार कर तीन लोगों ने मौत के घाट उतार दिया। तीनों आरोपी घंटाघर हनुमान मंदिर की गली में नूतन कॉलेज के गेट के पास घात लगाकर बैठे थे और जैसे ही उमेश वहां पहुंचे आरोपियों ने उन पर हमला कर दिया।

बेटा न होता तो गर्दन काट सकते थे आरोपी
उमेश के बेटे संकेत ने बताया, ‘यह घटना जब हुई तो मैं पिता से 15 मीटर की दूरी पर अपनी पत्नी के साथ था। वे तीन लोग थे, अचानक बाइक से उतरे और पिताजी के गले के नीचे हमला कर दिया। वे उनकी गर्दन काटना चाहते थे, लेकिन मुझे आता देख वे भाग निकले।’

क्या यह उदयपुर जैसा कांड हो सकता है? इस पर बेटे ने कहा कि हम अभी किसी भी संभावना को नहीं बता सकते, क्योंकि जांच अभी जारी है। संकेत ने यह भी पुष्टि की है कि NIA के अधिकारी इस जांच के लिए अमरावती पहुंचे हैं।

उदयपुर की घटना के बाद बेटे को सुरक्षा की चिंता
बेटे संकेत का कहना है कि इस घटना के बाद उसने मदद की आवाज लगाई और लेकिन हमलावर फरार हो चुके थे। आसपास के कुछ लोगों की मदद से उमेश को पास के ही एक्सॉन अस्पताल में भर्ती कराया गया। इलाज के दौरान ही उनकी मौत हो गई। उदयपुर की घटना के बाद अब हमें अपनी सिक्योरिटी की चिंता भी है, लेकिन हमें अमरावती पुलिस पर पूरा भरोसा है।’

पिता ने नूपुर शर्मा के समर्थन में क्या कोई पोस्ट किया था, इस पर संकेत ने कहा कि मैंने उनका फोन कभी चेक नहीं किया।

मास्टरमाइंड समेत सभी 6 आरोपी गिरफ्तार
उमेश के बेटे संकेत कोल्हे की तरफ से दर्ज शिकायत के बाद कोतवाली पुलिस ने जांच के आधार पर मामले में दो लोगों- मुदस्सिर अहमद (22) और शाहरुख पठान (25) को 22 जून को गिरफ्तार किया। दोनों से पूछताछ के बाद सामने आया कि उमेश की हत्या में चार और लोग शामिल थे। इनमें अब्दुल तौफिक (24), शोएब खान (22), आतिब रशीद (22) और शमीम फिरोज अहमद शामिल रहे। यूसुफ खान उर्फ बहादुर को भी देर शाम गिरफ्तार कर लिया गया, जिसे मुख्य आरोपी बताया जा रहा है।

न आपराधिक इतिहास, न कोई दुश्मनी
इस मामले पर सबसे पहले संदेह जताने वाले स्थानीय बीजेपी नेता शिवराय कुलकर्णी ने बताया कि एक लूट के लिए पहले 6 लोग रेकी नहीं करेंगे। वे पहले से घात लगाकर अंधेरे में नहीं बैठेंगे। वे अगर लूट के इरादे से आए थे तो उनका बैग छीन कर आसानी से भाग सकते थे, लेकिन जिस तरह से उन्होंने हमला किया है वह साबित करता है कि उनका इरादा कुछ और ही था।

जो भी 5-6 लोग पकड़े गए हैं वे कोई हिस्ट्रीशीटर नहीं हैं। पूर्व में उन पर कोई अपराध दर्ज नहीं है। न ही उमेश संग उनकी कोई दुश्मनी थी। ऐसे में यह साफ साबित होता है कि इस हत्याकांड के पीछे कुछ और ही वजह है।

हम सिर्फ इतना चाहते हैं कि हत्या के पीछे की असली वजह सामने आए और ऐसे और मामले होने से रोका जा सके। इसलिए हमने इस केस में एनआईए से संपर्क साधा है।’ उनकी टीम के आज अमरावती पहुंचने की पुष्टि भी शिवराय ने की है।

अमरावती में कई परिवारों को धमकी
उदयपुर कांड के बाद से संकेत समेत उनके सभी रिश्तेदार डरे हुए हैं। उनका कहना है कि इस मामले में जल्द असली सच्चाई सामने आनी चाहिए और पुलिस को आरोपियों पर कड़ी कार्रवाई करनी चाहिए। बीजेपी नेता कुलकर्णी ने बताया कि उमेश से पहले भी जिन तीन-चार लोगों ने नूपुर शर्मा के सपोर्ट में पोस्ट डाली उन्हें भी धमकाया गया। डर के कारण उन्हें माफी मांगनी पड़ी और माफी का वीडियो भी डालना पड़ा। ऐसे माहौल के बीच उमेश की जान जाना संदेह पैदा करता है कि इसके पीछे कोई खेल है।

केरल में दिल दहलाने वाली घटना, दो बच्चों समेत परिवार के पांच लोग फंदे पर लटके मिले

Related posts

हिंदी विरोधी पेरियार ने 1939 में की थी द्रविड़नाडु की मांग, अब DMK नेता राजा ने अमित शाह को दी धमकी : तमिलनाडु को देश बनाने की मांग कश्मीर से भी पुरानी

Such Tak

एक बजे तक 35.88% वोटिंग; ललितपुर के 5 गांवों में 12 बजे तक कोई वोट नहीं पड़ा, बिकरू कांड वाले गांव में लंबी कतारें

Such Tak

बाला साहब का नाम लिए बगैर शिवसेना चलाकर दिखाएं बागीः उद्धव का बयान

Such Tak