01/12/2022
खोज खबर बारा विशेष राजनीति राजस्थान हाडोती आँचल

बारा: राशन डीलर के खिलाफ सड़क पर उतरी महिलाएं, जमकर किया हंगामा

राजस्थान के बारां के कवाई ग्राम पंचायत के वार्ड निवासियों को डीलर द्वारा राशन का गेहूं नहीं देने पर कई महिलाओं ने रविवार दोपहर बाद नेशनल हाईवे जाम कर दिया. महिलाओं का आरोप था कि उन्हें -तीन महीने से राशन डीलर अंगूठा लगवाकर गेहूं नहीं दे रहा है.

दुकान पर भीड़ इकट्ठी होती देख राशन डीलर दुकान बंद कर निकल लिया. आधा घंटे से अधिक समय तक सड़क जाम रहने के बाद सूचना पर पहुंची पुलिस ने महिलाओं के साथ समझाइश करते हुए सड़क का जाम खुलवा कर प्रदर्शन कर रहे लोगों से डीलर के खिलाफ रिपोर्ट ली है.

राशन डीलर की मनमानी से परेशान कवाई ग्राम पंचायत के वार्ड संख्या 4, 5, 6 व 7 निवासी करीब तीन दर्जन महिलाओं और पुरुषों डीलर की दुकान के सामने नेशनल हाईवे को जाम कर दिया. लोगों का कहना था कि राशन डीलर उन्हें पिछले 2 माह से राशन का गेहूं नहीं दे रहा है, जबकि उनसे मशीन में अंगूठा लगवा कर गेहूं भी निकाल लिए.

परेशान उपभोक्ता बार-बार गेहूं लेने के लिए उसकी दुकान के चक्कर काट रहे हैं. ऐसे में डीलर दुकान बंद कर इधर-उधर हो जाता है. दिहाड़ी मजदूरी पर जाने वाली महिलाएं रोज राशन के लिए दुकान के चक्कर लगा रही हैं. परेशान महिलाएं जब डीलर की दुकान पर पहुंची तो राशन डीलर दुकान बंद कर वहां से चला गया.

बाद में भीड़ बढ़ती गई और सभी इकट्ठे होकर सरपंच के घर पहुंचे. सरपंच चम्पालाल को इससे अवगत कराया और धरना देने की बात कही. एकजुट भीड़ ने राशन डीलर की दुकान के सामने नेशनल हाईवे 90 पर कतार लगाकर सड़क को जाम कर दिया. करीब आधे घंटे से अधिक सड़क जाम रहने पर वहां सैकड़ों की तादाद में वाहनों की कतारें लग गई.

इस मौके पर गुड्डी बाई कोली, सावित्रीबाई, लीलाबाई, मधुबाई राधाबाई, विमला बाई, सुगन बाई, मुकेश कोली, घासी लाल, प्रेमचंद, सोनू, सुरेंद्र, जगदीश, बृजमोहन आदि मौजूद थे। इनका आरोप था कि राशन डीलर उनके हिस्से का गेहूं कहीं ओर बेच रहा है. उपखंड अधिकारी दिनेश बालोत ने बताया कि जांच में डीलर दोषी पाया गया तो कार्रवाई की जाएगी. विभाग के प्रवर्तन निरीक्षक प्रमोद ने कहा कि इसकी जांच करवाएंगे. ऊपर से तो कोटा पूरा ही मिल रहा है.

Related posts

Rajasthan Budget 2022 LIVE Update : सीएम Ashok Gehlot का बजट भाषण शुरू, यहां देखें बड़ी और ख़ास बातें

Such Tak

यूक्रेन ने मोदी से मांगी मदद, कहा- आपका रसूख है, रूस से बात करें; हमले में अब तक 9 नागरिकों की मौत

Such Tak

कोरोना की तीसरी लहर डरावनी रही, घातक नहीं:ओमिक्रॉन के खतरे के बीच पहली लहर से ज्यादा पॉजिटिव हुए, 49 दिन में 537 ने दम तोड़ा

Such Tak