01/10/2022
खोज खबर देश

गुजरात में जहरीली शराब , अब तक 19 की मौत, दर्जनों की हालत गंभीर

गुजरात के बोटाद जिले के रोजिद गांव में जहरीली शराब पीने से अब तक 19 लोगों की मौत हो चुकी है। वहीं 40 अन्य बीमार पड़ गए जिन्हें उपचार के लिए विभिन्न अस्पतालों में भर्ती कराया गया है। पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कुछ मरीजों की हालत गंभीर है। इस मामले में पुलिस ने कुछ लोगों को हिरासत में लिया है। पुलिस ने कहा कि उन्हें संदेह है कि बरवाला और रोजिद गांव के शराब तस्करों ने पानी में रसायन मिला कर उसे बेच दिया। बोटाद के एसपी करनराज वाघेला ने कहा कि 40 गंभीर रूप से बीमार लोगों को बोटाद, धंधुका और अहमदाबाद सिविल अस्पताल के विभिन्न अस्पतालों में भर्ती कराया गया है।

नमूने फोरेंसिक जांच के लिए भेजे, एसआईटी का गठन
वाघेला ने यह भी कहा कि तस्करों द्वारा किस रसायन का इस्तेमाल किया गया था, यह जानने के लिए नमूने फोरेंसिक जांच के लिए भेजे गए हैं। शीर्ष पुलिस सूत्रों ने कहा कि गुजरात एटीएस को इस त्रासदी की जांच के लिए अनौपचारिक रूप से शामिल किया गया है। एटीएस सूत्रों ने बताया कि पिंटू नाम के एक बूटलेगर को अन्य लोगों के साथ गिरफ्तार किया गया था। घटना की जांच जल्द ही गुजरात एटीएस को सौंपे जाने की संभावना है। जांच के लिए फोरेंसिक और स्वास्थ्य अधिकारियों की एक एसआईटी का गठन किया गया है।

पानी में रसायन मिलाकर देशी शराब के रूप में बेचा
डीजीपी आशीष भाटिया ने कहा कि मुख्य आरोपियों को पहले ही गिरफ्तार किया जा चुका है और उन्होंने बोटाद पुलिस के सामने कबूल किया कि उन्होंने पानी में रसायन मिलाकर देशी शराब के रूप में बेचा था। वाघेला ने कहा कि हमें घटना के बारे में तब पता चला जब पीड़ितों के शव स्थानीय अस्पताल में पहुंचने लगे। बोटाद के सात गांवों में एक सर्वेक्षण किया जा रहा है और 10 लोगों को राउंड अप किया गया है।

बढ़ सकती है मरने वालों की संख्या
आईजीपी अहमदाबाद रेंज वी चंद्रशेखर ने कहा कि धंधुका तालुका से चार शव सरकारी अस्पताल लाए गए। उन्होंने कहा, कुछ लोग जो देशी शराब पीने बोटाद गए थे, उनकी हालत नाजुक है और मरने वालों की संख्या बढ़ सकती है। वाघेला ने कहा कि मुख्य आरोपियों ने हमारे सामने कबूल किया कि उनके पास पानी के साथ मिश्रित रसायन थे।

इन गांवों के लोग आए चपेट में
बताया जा रहा है कि जहरीली शराब पीने की वजह से रोजिंद, अणीयाणी, आकरु, चंदरवा और उंचडी गांव के लोग चपेट में आए हैं। वहीं अहमदाबाद के धंधुका में भी जहरीली शराब पीने से कई लोगों को अस्पताल में भर्ती किया गया है।

इन मृतकों की हुई पहचान
सूत्रों के अनुसार, जिन मृतकों की पहचान की गई है, उनमें धंधुका के अक्रू गांव के 36 वर्षीय किशन चावड़ा और 60 वर्षीय धंधुका के उंचड़ी गांव के गगजी चेतलिया शामिल हैं। पुलिस ने कहा कि वशराम परमार नाम के शख्स ने भी नकली शराब पी थी। उसने अपनी पत्नी को बताया कि उसके साथ 10 से ज्यादा अन्य लोगों ने भी सामान का सेवन किया था।

10 साल कैद और 5 लाख रुपए जुर्माने का प्रावधान
आपको बता दें कि गुजरात में कई सालों से शराबबंदी है। इसके बावजूद लोगों को यह कहां से मिल रही है। पुलिस इस पूरे मामले में कुछ भी बोलने से बच रही है। गुजरात में 1960 से ही शराबबंदी लागू कर दी गई थी। साल 2017 में शराबबंदी से जुड़े कानून को और कठोर कर दिया था। गैरकानूनी तरीके से शराब की बिक्री करने पर 10 साल कैद और 5 लाख रुपए जुर्माने का प्रावधान है।

सोनिया गांधी की आज फिर ED के सामने पेशी : कांग्रेस करेगी विरोध प्रदर्शन

Related posts

अवैध खनन से दुखी संत का आत्मदाह:80% झुलसे बाबा विजय दास, खदान बंद कराने 551 दिन से आंदोलन कर रहे थे

Such Tak

हार्दिक पटेल कांग्रेस छोड़ने के एक पखवाड़े बाद जानिये कौनसी पार्टी को कर सकते है ? JOIN

Such Tak

दिल्ली :सोनू ने कबूल किया जुर्म, कहा- कुशल चौक के पास गोली चलाई थी

Such Tak