08/02/2023
खोज खबर देश राजस्थान

जोधपुर सिलेंडर ब्लास्ट में दूल्हे के पिता-भतीजे की भी मौत: बड़े भाई ने आज दूसरे मासूम बेटे को भी खोया, दूल्हे की मां की भी गई जान, 5 दिन में 22 जानें गईं

जोधपुर में गैस सिलेंडर ब्लास्ट में मौतों का आंकड़ा बढ़ता जा रहा है। मंगलवार सुबह एक साथ चार मौतों से पूरा अस्पताल सहम गया। इससे पहले सोमवार को दूल्हे की मां समेत 6 लोगों की मौत हो गई थी।

वहीं, मंगलवार को दूल्हे के पिता और भतीजे समेत 4 लोगों ने दम तोड़ दिया। ऐसे में मौतों का आंकड़ा बढ़कर 22 हो गया है। जिन लोगों ने दम तोड़ा वे 50 प्रतिशत से अधिक झुलसे हुए थे।

मंगलवार को महात्मा गांधी अस्पताल में इलाज के दौरान दूल्हे के पिता सगत सिंह (55), दिलीप कुमार (24), सुगन कंवर (56), आईदान सिंह (9) की डेथ हो गई। हादसे में अब मृतकों की संख्या 22 पर पहुंच गई है। करीब आठ जने अभी भी आइसीयू में है और उनकी हालत गंभीर बनी हुई है।

वहीं, आज हुई मौतों की जानकारी मिलने पर कलेक्टर हिमांशु गुप्ता ने भी अस्पताल का दौरा किया। उन्होंने घायलों के इलाज के बारे में मेडिकल कॉलेज के प्रिंसिपल डॉ दिलीप कच्छावा और अस्पताल अधीक्षक डॉ. राजश्री बेहरा से इलाज के बारे में जानकारी ली।

यहां पर फिलहाल मरीजों के परिजनों के लिए एक काउंसिलिंग कक्ष बनाया गया है। इसमें बैठे अस्पताल के स्टाफ मरीजों के इलाज के बारे में पूरी जानकारी देंगे। इधर इस घटना की सूचना मिलते ही गांव में मातम छा गया है।

अस्पताल में अब हर कोई दुआ कर रहा है कि मौतों का यह आंकड़ा यही रुक जाए। पांच दिन में 22 मौतों का आंकड़ा काफी बड़ा है। अस्पताल में लाने के बाद 20 जने दम तोड़ चुके हैं। अस्पताल में भर्ती 54 में से 22 जनों की मौत हो चुकी है। अभी भी 32 घायल अस्पताल में भर्ती है।

दूल्हे को तैयार करने आया था दिलीप


24 साल के दिलीप सैन जिसकी मंगलवार को मौत हुई वह दूल्हे को तैयार करने के लिए आया था। हादसे के बाद वह लोगों को बचाने के लिए खिड़की तोड़ कमरे में घुसा और तीन लोगों को आग से बचाकर घर से बाहर निकला। लेकिन, लोगों को बचाने के दौरान वह 50 प्रतिशत से अधिक झुलस गया था।

अस्पताल अधीक्षक डॉ. राजश्री बोहरा ने बताया कि घटना के बाद से ही प्लास्टिक सर्जन रजनीश गालवा व अन्य डॉक्टरों की टीम जुटी हुई है। प्रत्येक वार्ड में डॉक्टर्स व नर्सेज अपनी जिम्मेदारी के साथ काम कर रहे हैं। 24 डॉक्टरों की टीम दिन-रात इलाज में जुटी है। इनमें सीनियर और जूनियर सहित रेजिडेंट डॉक्टर भी शामिल हैं।

अब जागा प्रशासन, जारी किए निर्देश
जिला प्रशासन ने जोधपुर के कीर्तिनगर एवं भूंगरा (शेरगढ़) में गैस सिलेण्डरजनित हृदय विदारक हादसों को देखते हुए हादसों की रोकथाम के लिए जिले के समस्त बीपीसीएल/आईओसीएल/एचपीसीएल गैस एजेंसीधारकों को विस्तृत निर्देश जारी किए हैं।

इसमें सिलेण्डर में गैस रिसाव/लीक की पूर्ण जांच करने, आवश्यक होने पर उपभोक्ताओं को सिलेंडर वासर को चेंज करके सिलेंडर आपूर्ति कराने, सिलेंडर में पूर्ण वजन जांच करने की बात कही गई है।

 

Related posts

बारां: 91 करोड़ से बनेगा 7 मंजिला मेडिकल कॉलेज अस्पताल: 1 महीने में शुरू होगा काम, जिला अस्पताल से हटेंगे डॉक्टर्स के पुराने क्वाटर्स

Such Tak

नकवी बोले- मैंने ये शपथ नहीं ली थी कि मुस्लिमों के विकास के लिए ही काम करूंगा : उपराष्ट्रपति उम्मीदवार बनाए जाने से अंजान हूं

Such Tak

सचिन पायलट और उनके गुट के 18 कांग्रेसी विधायकों का विवाद फिर उभरा

Such Tak