08/02/2023
खोज खबर राजनीति राजस्थान

BJP करेगी जनाक्रोश अभियान का रिव्यू: जहां भीड़ कम उन विधानसभा सीटों को दी D कैटेगरी, कमजोर जगह के लिए प्लानिंग

राजस्थान में कांग्रेस सरकार के खिलाफ बीजेपी की ओर से 1 दिसंबर 2022 से चलाए जा रहे जनाक्रोश अभियान का रिव्यू सोमवार को होगा। जनाक्रोश अभियान के दौरान जिलों से लेकर विधानसभा क्षेत्रों में मिले समर्थन का पार्टी रिव्यू करेगी।

ये रिव्यू कई पैमानों पर होगा। सोमवार को बीजेपी की दो महत्वपूर्ण बैठकें होंगी। इनमें पहले प्रदेश पदाधिकारियों की महत्वपूर्ण बैठक होगी। इसके बाद कोर कमेटी की बैठक होगी। इन्हीं बैठकों से बीजेपी की राजस्थान में आगे की अप्रोच तय होगी।

                                                                                       जनाक्रोश अभियान की सफलता मापेंगे

सोमवार को होने वाली बैठक में बीजेपी के जनाक्रोश अभियान को तौला जाएगा। किस विधानसभा क्षेत्र में अभियान कितना इफेक्टिव रहा। इस पर चर्चा कर आकलन किया जाएगा। किस नेता या पदाधिकारी के क्षेत्र में जनाक्रोश अभियान कितना सफल रहा, यह भी देखा जाएगा। नेताओं और कार्यकर्ताओं की परफॉर्मेंस और उनकी सक्रियता का भी रिव्यू किया जाएगा।

बीजेपी ने जनाक्रोश अभियान के पहले फेज में 14 दिसम्बर तक सभी विधानसभा सीटों पर रथयात्राएं की थी।

जनाक्रोश के आधार पर विधानसभा क्षेत्रों की कैटेगरी तय होगी

जनाक्रोश अभियान के रिव्यू के लिए विधानसभा सीटों को अलग-अलग कैटेगरी में बांटा जाएगा। जहां लगभग 10 हजार से ज्यादा लोगों की भीड़ सभाओं में आई हैं, उन्हें ए कैटेगरी में रखा जाएगा। इसी अनुसार बी, सी और डी कैटेगरी विधानसभा सीटों को दी जाएगी।

जहां भीड़ बेहद कम या ना के बराबर थी, उन्हें डी कैटेगरी में रखा जाएगा। बी, सी और डी कैटेगरी में आने वाली सीटों पर अगले चुनाव के हिसाब से अलग से रणनीति तय होगी।

कमजोर विधानसभा सीटों के लिए होगी प्लानिंग

जनाक्रोश सभाओं में जिन विधानसभा सीटों में भीड़ कम रही या परफॉर्मेंस ज्यादा अच्छी नहीं रही, उन विधानसभा सीटों के लिए प्लानिंग की जाएगी। यह देखा जाएगा कि इन विधानसभा सीटों में परफॉर्मेंस नहीं रहने के कारण क्या रहे? वहां के मंडल अध्यक्ष, सम्बन्धित जिलाध्यक्ष और नेताओं की सक्रियता को भी मापा जाएगा। उसी अनुसार कमजोर विधानसभा सीटों के लिए आगे की प्लानिंग की जाएगी।

जनाक्रोश अभियान के दूसरे फेज में सभी सीटों पर सभाएं की गई। इसमें प्रदेश के प्रमुख पदाधिकारी और नेता शामिल हुए।

शिकायतों का डॉक्यूमेंट बनाकर होगी प्लानिंग

जनाक्रोश के दौरान आम लोगों से जो भी फीडबैक या शिकायतें मिलीं, उसके अनुसार बीजेपी एक डॉक्यूमेंट तैयार करेगी। विधानसभावार मुद्दों और शिकायतों के आधार पर आगे की रणनीति तैयार की जाएगी। इसी के साथ बीजेपी के अगले 3 महीनों के कार्यक्रम भी इन बैठकों में तय हो जाएंगे। इसके अलावा 13 जिलों में जिलाध्यक्ष और संगठन की मजबूती पर भी चर्चा होगी।

तीनों केंद्रीय मंत्री सहित प्रमुख पदाधिकारी शामिल होंगे

बीजेपी की कोर कमेटी में प्रदेश प्रभारी अरुण सिंह, सह प्रभारी विजया रहाटकर, प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया, नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया, पूर्व सीएम वसुंधरा राजे, केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत, अर्जुनराम मेघवाल, सांसद सीपी जोशी, कनकमल कटारा, राजेंद्र गहलोत सहित अन्य प्रमुख नेता शामिल होंगे। इसके अलावा प्रदेश पदाधिकारियों की बैठक में प्रदेश बीजेपी के प्रमुख पदाधिकारी शामिल होंगे।

जनाक्रोश अभियान में बीजेपी राजस्थान की कांग्रेस सरकार को कई मुद्दों पर घेर रही है।

बीजेपी ने 200 विधानसभा सीटों पर रथयात्रा और सभाएं की थीं

बीजेपी ने अपना जनाक्रोश अभियान 1 दिसम्बर से शुरू किया था। इसमें पहले सभी 200 विधानसभा क्षेत्रों में रथयात्राएं की गईं। इसकी शुरुआत 1 दिसम्बर को बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्‌डा ने की थी। रथयात्राओं के बाद सभी विधानसभा सीटों में जनाक्रोश सभाएं की गईं। ये सभाएं लगभग 10 जनवरी तक खत्म होंगी। इस अभियान में बीजेपी ने विभिन्न मुद्दों पर कांग्रेस सरकार को घेरा है।

Related posts

आदिवासी रंग में नजर आए CM, JDU-बीजेपी पर बोले- नापाक गठबंधन था, टूट गया : राजस्थान

Such Tak

24 दिसंबर तक पोलिंग बूथों की सूची जारी

Web1Tech Team

फरवरी में रूस और यूक्रेन के बीच संयुक्त राष्ट्र कर सकता है मध्यस्थता, हो सकती है शांति वार्ता पर बातचीत

Such Tak