22/09/2022
अपराध देश राजस्थान

Jaipur में हजारों लोगों ने सड़क पर किया हनुमान चालीसा का पाठ : Udaipur Murder

राजस्थान (Rajasthan) के उदयपुर (Udaipur) में  टेलर कन्हैयालाल की हत्या (Tailor Kanhaiya Lal Murder case) के विरोध में रविवार को सर्व हिन्दू समाज की ओर से स्टेच्यू सर्किल (Statue Circle) पर मौन जुलूस निकाला गया. इसके बाद सड़क पर ही हजारों की संख्या में मौजूद लोगों ने हनुमान चालीसा (Hanuman Chalisa) का पाठ किया. मौन जुलूस के दौरान भारी पुलिस फोर्स तैनात की गई. शहर के संवेदनशील इलाकों में भी पुलिस की गश्त तेज रही.

इधर घटना के विरोध में रविवार को अजमेर शहर भी पूरी तरह से बंद रहा. अजमेर में आज सुबह 7 से दोपहर 12 बजे तक सर्व समाज की ओर से बंद बुलाया गया था. वहीं घटना वाले शहर उदयपुर में रविवार सुबह आठ बजे से शाम छह बजे तक कर्फ्यू में  दील

 

BJP नेताओं ने मंच से बनाई दूरी

जयपुर में होने वाला विरोध प्रदर्शन पहले शहर के भीड़ भरे इलाके बड़ी चौपड़ पर प्रस्तावित था. बाद में सुरक्षा कारणों और भीड़ अधिक होने की वजह से इसे स्टेच्यू सर्किल पर आयोजित किया गया. कार्यक्रम में हिंदू संगठनों (स्वयंसेवक संघ, विश्व हिंदू परिषद, बजरंग दल) के साथ कई सामाजिक और धार्मिक संगठन शामिल हुए.

कार्यक्रम में बीजेपी सांसद रामचरण बोहरा, विधायक कालीचरण सराफ, बीजेपी शहर अध्यक्ष राघव शर्मा सहित कई अन्य बीजेपी नेता मौजूद थे. कार्यक्रम स्थल पर मंच बनाया गया था जिस पर साधु-संतों को स्थान दिया गया था. बीजेपी के किसी भी नेता को मंच पर नहीं बैठाया गया.

कड़े सुरक्षा के बंदोबस्त होने के कारण प्रदर्शन में शामिल हुए लोगों को भी तकलीफ का सामना करना पड़ा. लोगों का कहना है कि पुलिस ने सभी जगह बेरीकेड्स लगाकर रास्ता रोक दिया और पैदल भी नहीं आने दे रहे हैं. रैली को लेकर चारदीवारी में पुलिस का सख्त पहरा रहा. खास तौर से मुस्लिम इलाकों में पुलिस बल तैनात रहा. सूरजपोल से लेकर बड़ी चौपड़ तक रास्ते को बंद कर दिया गया है. सूरजपोल से हीरा की मोरी, रामगंज में पुलिस ने बेरीकेड्स लगाकर रास्ता रोक दिया. इस वजह से वाहनों की आवाजाही भी प्रतिबंधित है.

वकीलों ने हत्यारों को धुना; NIA को 10 दिन की रिमांड, जयपुर-उदयपुर सहित कई जिलों में कल तक नेटबंदी : उदयपुर हत्याकांड

 

बड़ी संख्या में संत-महंत हुए शामिल

उदयपुर हत्याकांड के विरोध में बड़ी संख्या में संत-महंतों ने भी भाग लिया। मोतीडूंगरी गणेश मंदिर के महंत कैलाश शर्मा, महंत बालमुकुंदाचार्य, रेवासा पीठाधीस के राघवाचार्य, पचार पीठ के सौरभ राघवेंदाचार्य सहित कई संत-महंत सभा में पहुंचे.

कई सामाजिक और धार्मिक संगठनों के लोग भी पहुंचे. प्रदर्शन में बड़ी संख्या महिलाएं हाथों में तख्तियां थामकर हत्यारों को फांसी की सजा देने की मांग कर रही थीं.

 

Related posts

पायलट बोले- वसुंधरा को चैन से नहीं रहने दिया था , युवा केवल दरी बिछाने, नारे लगाने को नहीं, आगे लाना होगा

Such Tak

Rajasthan : नहीं थम रहे सांप्रदायिक दंगे,आखिर क्यों है बारां पुलिस नाराज,धर्म विशेष के लोगों द्वारा की गयी चाक़ूबाजी

Such Tak

जहांगीरपुरी: सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर, दिल्ली पुलिस की कार्रवाई पर सवाल

Such Tak